छत्तीसगढ़ में पहली बार रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल, रायपुर में हार्ट ट्रांसप्लांट और यूरो रोबोटिक सर्जरी की शुरूवात

180
IMG 20230616 130332
IMG 20230616 130332

रायपुर। अत्याधुनिक चिकित्सकीय सेवाओं व सुविधाओं के लिए सबसे बड़ी और विश्वसनीय संस्थान के रूप में पहचान स्थापित कर चुके रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल के लिए यह एक और बड़ी उपलब्धि होगी इसलिए कि अब इसके लिए ऐसे मरीजों को महानगरों तक जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी ।

डॉक्टर ए. नागेश, कंसल्टेंट सीटीव्हीएस एंड हार्ट ट्रांसप्लांट सर्जन ने कार्डयिक सर्जरी व केडावरिक हार्ट ट्रांसप्लांट के एडंवास पद्धति के संबंध में चर्चा करते हुए बताया कि जब हार्ट कुशलता से काम करने लायक नहीं रहता है और किसी व्यक्ति का जीवन संभावित रूप से खतरे में हो तो हार्ट ट्रांसप्लांट (ह्दय प्रत्यारोपण) की आवश्यकता पड़ती है। एक व्यक्ति को आम तौर पर हृदय प्रत्यारोपण की सलाह तब दी जाती है जब गंभीर हार्ट फेलियर हो, जब दिल की शरीर से चारों ओर पर्याप्त रक्त पंप करने में परेशानी हो रही हो और उसका हृदय प्रत्यारोपण के बिना जीवित बचना संभव नहीं हो। हार्ट ट्रांसप्लांट के दौरान हार्ट बाइपास मशीन आपके रक्त को प्रसारित करती रहेगी। आपरेशन से क्षतिग्रस्त हिस्से को हटा दिया जाता है, और मुख्य धमनियों से जोड़ दिया जाता है। एक हृदय प्रत्यारोपण सामान्यतः छः से आठ घंटे में होता है। इसके बाद भी काफी सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। एडवांस उपचार सिस्टम से जोखिम कम जरूर हो गए हैं पर खत्म नहीं हुए हैं। इसके लिए ट्रांसप्लांट सेंटर में लगातार फालोअप अपाइमेंट की जरूरत होगी।

डॉ. विवेक वेंकटरामाणी (यूरोलॉजी- गोल्ड मेडेलिस्ट सीएमसी वेलुर ) एंड रोबोटिक सर्जरी (एमआईएएमआई यूएसए) ने रोबोटिक सर्जरी और यूरोलॉजी कैंसर के संबंध में बताया कि रोबोटिक सर्जरी या रोबोट—–असिस्टेड सर्जरी एक तरह की न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी है, जहां रोबोटिक सर्जरी करने के लिए छोटे कीहोल के माध्यम से मानव शरीर में प्रवेश करते हैं। इन भुजाओं को एक कंसोल पर कुछ दूरी पर बैठे सर्जन द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यूरो-ऑन्कोलॉजी यूरोलॉजी की एक उप-विशेषता है जो मानव मूत्र प्रणाली के कैंसर से संबंधित है, जिसमें गुर्दे, मूत्रवाहिनी, मूत्राशय, प्रोस्टेट, मूत्रमार्ग, लिंग, अंडकोष शामिल हैं।

रोबोटिक सर्जरी की शुरुआत ने प्रोस्टेट और किडनी के कैंसर के इलाज में क्रांति ला दी है। प्रोस्टेट कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। बढ़ती जागरूकता, नियमित स्वास्थ्य जांच और एक तरफ बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता के कारण और जीवन काल में वृद्धि और उम्र बढ़ने वाली आबादी की बड़ी संख्या के कारण अब प्रोस्टेट कैंसर मामलों का अधिक सामान्य रूप से निदान किया जाता है।

छत्तीसगढ़ ही नहीं बल्कि पूरे मध्यभारत में विश्वस्तरीय चिकित्सा व सर्जरी की अत्याधुनिक सुविधाओं के लिये प्रतिष्ठित रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल की चिकित्सकीय सेवाएं लगातार विस्तारित की जा रही हैं। रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल के मेडिकल व मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. संदीप दवे जो 35 वर्षो से अधिक अनुभवी व कुशल सर्जन के रूप मे प्रतिष्ठित हैं रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल को, अपने परिश्रम व प्रयासों से श्रेष्ठ हॉस्पिटल का दर्जा प्राप्त करने में समर्पित ढंग से जुटे रहते हैं।

छत्तीसगढ़ के सर्वप्रथम रोबोटिक सर्जरी मशीन की स्थापना रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल में की गई है। अब तक 100 से भी अधिक अत्याधुनिक रोबोटिक सर्जरी रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल में किए जा चुके है। हृदय रोग, किडनी, लिवर, मस्तिष्क संबंधी जटिल से जटिल रोगों के मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज, यहाँ विशेषज्ञ चिकित्सकों व कुशल अनुभवी स्टॉफ के द्वारा होता है।