close
Home छत्तीसगढ़ मोतियाबिंद बर्बाद कर रहा था मासूम का बचपन

मोतियाबिंद बर्बाद कर रहा था मासूम का बचपन

49
3d004d2e51fa866ebb5cd3fc19bc5b4ded4b8e71a98dc8f7f5538de725564d00.0
3d004d2e51fa866ebb5cd3fc19bc5b4ded4b8e71a98dc8f7f5538de725564d00.0
  • मुख्यमंत्री को धन्यवाद देने मां के साथ मुस्कुराते हुए पहुंचा प्रत्यक्ष

रायपुर। प्रत्यक्ष यानि कि वो जो स्पष्ट दिखाई देता हो। ये नाम एक मां ने अपने बेटे के लिए रखा था ताकि हमेशा उसकी आंखो के सामने रहे, लेकिन जब प्रत्यक्ष थोड़ा बड़ा हुआ तो पता चला कि उसके अक्ष उसका साथ नहीं दे रहे हैं, वो ठीक से देख नहीं पाता है। प्रत्यक्ष की मां नीलावती राठिया के लिए इस बात का पता चलना किसी दुख के पहाड़ के समान था।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

घरघोड़ा का गरीब राठिया परिवार को निजी डाक्टरों ने उसकी आंखें ठीक करने के लिए जो खर्च बताया उसे कर पाना इस परिवार के लिए संभव नहीं था।
समय बीतता रहा और प्रत्यक्ष 3 साल का हो गया. नीलावती ने उम्मीदें छोड़ दी थीं कि अब उनका बेटा कभी देख भी पाएगा। ऐसे में मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना नीलावती के लिए वरदान बन कर आई। यहां से प्रत्यक्ष की मां को पता चला कि उसे मोतियाबिंद है और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा शुरू की गई डॉ खूबचंद बघेल स्वास्थ्य योजना से उसका इलाज भी निरूशुल्क हो सकता है।

आखिरकार वो दिन भी आ गया जब प्रत्यक्ष की अक्ष का इस योजना के तहत आपरेशन हो गया और  अब उसकी आंखों की रोशनी भी लौट आई है। इसके लिए प्रत्यक्ष की मां और उसका  पूरा परिवार मुख्यमंत्री को धन्यवाद देने के लिए घरघोड़ा भेंट मुलाकात पहुंचा था।

सामाजिक वानिकी को बढ़ावा देने के साथ ग्राम पंचायतों को बनाएं सशक्त : केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह