Breaking Newsखास खबरछत्तीसगढ़

स्वास्थ्य सुविधाओं के क्षेत्र में कोरबा रचने जा रहा नया इतिहास……


चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना को लेकर कोरबावासियों की मांग हुई पूरी
प्रथम चरण के लिए केन्द्र सरकार 325 करोड़ तो राज्य सरकार खर्च करेगी 130 करोड़ रूपये
वर्तमान में संचालित हो रहे कोरबा आई.टी. काॅलेज परिसर में संचालित होगा कोरबा मेडिकल काॅलेज
राज्य सरकार की सकारात्मक पहल पर केन्द्र सरकार ने प्रदान की मंजूरी
राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष और स्वास्थ्य मंत्री के प्रति जताया आभार
राजस्व मंत्री और कोरबा सांसद ने कोरबावासियों की ओर से रखी थी मांग

कोरबा छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डा. चरणदास महन्त और स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव के प्रति कोरबावासियों की ओर से आभार जताया है। विगत वर्ष कोरबा के अल्प प्रवास पर आए प्रदेश के मुख्य मंत्री भूपेश बघेल के समक्ष खुले मंच से जयसिंह अग्रवाल ने कोरबा में एक चिकित्सा महाविद्यालय खोलने की मांग रखी थी जिसकी औपचारिक मंजूरी की घोषणा मुख्य मंत्री ने तत्काल ही मंच से कर दी थी।
अब चूंकि केन्द्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोरबा में नए चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना और निर्माण के लिए विधिवत कोष की मंजूरी प्रदान कर दी है ऐसे में जयसिंह अग्रवाल ने एक बार पुनः मुख्य मंत्री भूपेश बघेल और विधान सभा अध्यक्ष डाॅ. चरणदास महन्त के प्रति कोरबावासियों की ओर से हार्दिक आभार जताया है। राजस्व मंत्री ने बताया कि कोरबा क्षेत्र आदिवासी बाहुल्य होने के साथ ही एक औद्योगिक नगरी है । कोरबावासियों की एक लम्बे समय से मांग रही है कि यहां एक चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना हो ताकि यहां के बच्चों को मेडिकल की पढ़ाई के लिए अन्यत्र न जाना पड़े और सभी लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा भी प्राप्त हो सके।
भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अवर सचिव अमित बिस्वास ने दिनांक 20 मार्च को छत्तीसगढ़ राज्य के चिकित्सा शिक्षा सचिव को सम्बोधित पत्र में केन्द्र सरकार द्वारा कोरबा के साथ ही महासमुंद और कांकेर में चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना करने के लिए मंजूर की गई राशि से अवगत कराया है। पत्र के अनुसार प्रत्येक चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना हेतु 325 करोड़ की कुल राशि मंजूर की गई है। इस खर्च का 60 प्रतिशत अर्थात 195 करोड़ रूपये केन्द्र सरकार और शेष 40 प्रतिशत अर्थात् 130 करोड़ रूपये का खर्च राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। इस प्रकार तीनो चिकित्सा महाविद्यालयों की स्थापना पर कुल 975 करोड़ रूपये केन्द्र सरकार और 390 करोड़ रूपये राज्य सरकार द्वारा वहन किया जायेगा।
निश्चत ही कोरबावासियों के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है जिसे राजस्व मंत्री ने स्वर दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button