Breaking Newsखास खबरछत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ के एकमात्र पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम परिवर्तन करना निन्दनीय : अभाविप

रायपुर। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, छत्तीसगढ़ प्रदेश सरकार द्वारा कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम परिवर्तन किये जाने के निर्णय का विरोध करती है। अभाविप के प्रदेश मंत्री श्री शुभम जायसवाल ने कहा कि ऐसे समय में जब प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरा देश कोरोना वायरस की महामारी से लड़ रहा है, तब छत्तीसगढ़ के एकमात्र पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम परिवर्तन करना प्रदेश सरकार की संकीर्ण मानसिकता को दर्शाता है। प्रदेश सरकार को कम से कम शैक्षणिक संस्थाओं में तो राजनीति बन्द करना ही चाहिये और अपनी शक्ति राजनीति की इन ओछी हरकतों के बजाय कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के विरुद्ध संघर्ष में लगानी चाहिए।
जायसवाल ने आगे कहा कि स्वø कुशाभाऊ ठाकरे ने कभी किसी पद में न रहते हुए भी देश और समाज के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वे आजीवन समाज के प्रति समर्पित कार्यकर्ता के रूप में पूरे देश भर में जाने गए। उनके जीवन सन्देशों को चिरस्थायी बनाने के लिये ही प्रदेश में पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नामकरण उनके नाम पर किया गया। प्रदेश मंत्री श्री जायसवाल ने कहा कि ऐसे महापुरुषों का जीवन सन्देश ही उनका स्मारक होता है अत: विश्वविद्यालय का नाम परिवर्तन करना सरकार की क्षुद्र मानसिकता का ही परिचायक है। जीवन पर्यन्त उच्च आदर्शों को ध्यान में रखकर उनका कड़ाई से पालन करने वाले एक सद्पुरुष के नाम से स्थापित विश्वविद्यालय के नाम का परिवर्तन करना निंदनीय है और परिषद् इसकी कड़ी शब्दों में भर्त्सना करती है।


)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button