खास खबरराजधानीसमाचार

बड़े बड़े रोजेदारों में शुमार हो गयी नन्ही सी जान अल्फीया अंजुम

रायपुर। इल्म और संस्कार बच्चो में बचपन से आने लगते है, अमूमन यही देखने को मिलता है कि जिस घर मे ईबादत और ईस्वर की भक्ति में तल्लीनता होती है, उनके घरों में रहमत बरसती है, ख़ास कर बच्चो को इस्लामिक धर्म की शिक्षा का यह पहला कदम ही होता है, लोग अपने धर्म को जानते समझते है, ईस्वर क्या है पैगम्बर क्यू जमीन पर बशर बन कर आए, क्यू उन्होंने अपना सारा जीवन मनुष्य के कल्याण के लिए लगा लागए, जीवन को सादगी और प्रेम से जी कर उन्होंने एक मार्ग कायम किया जिस पर चल कर ही ईस्वर की हम कृपा पा सकते है। छोटे बच्चों में अदब और अपने से बड़े बुजुर्गों का एहतराम करना इस कोमल सी उम्र में ही आने लगते है, जीवन को कैसे दुसरो के पेरोकार में लगाए यही इस्लाम की सुरवती शिक्षा बच्चो को दी जाती है,
कुरआन और हदीसो के हवाले से उन्हें समझाया जाता है,
रायपुर संजय नगर निवासी अल्फीया अंजुम अपने घर से मिलने वाले सतमर्ग और अच्छे संस्कारो को समेटे पवित्र माह रमज़ान के रोजे रख कर बड़े बड़े रोजेदारों में शुमार हो गयी नन्ही सी जान और इस भीषण गर्मी में भूख प्यास की शिद्दत को भूल कर अब अल्फीया अंजुम अपने रब को मानने की कोशिश करती है। मो शमीम पत्रकार की लख्ते ज़िगर की इस कोशिश के सभी क़ायल होते जा रहे, छोटी सी उम्र में बड़ो बड़ो को दांतों तले उंगली दबाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा, अल्फीया अंजुम वक़्त पर शहरी और वक़्त पर रोजा अफ्तार करतीे है, ईस्वर से प्रर्थना है कि अल्फीया अंजुम को हिम्मत और उनके परिवार वालो को सब्र की दौलत से मालामाल रखे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button