छत्तीसगढ़राजधानीसमाचार

लघु उधोग भारती की पहल पर सराफा कारोबारियों के लिए हालमार्किंग पर हुआ वेबनायर

सराफा कारोबारियों के बीच हालमार्किंग योजना पर बीआईएस रायपुर का वेबनायर

भारतीय मानक ब्यूरो रायपुर के द्वारा हालमार्किंग योजना को लेकर लघु उधोग भारती की पहल पर छतीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रिज तथा छतीसगढ़ सराफा संघ एवं लघु उधोग भारती के साझा सहयोग से हालमार्किग के उपर वेबेक्स के द्वारा विडिओ कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यशाला का आयोजन किया गया ! कार्यक्रम की शुरुवात में लघु उधोग भारती के अध्यक्ष संजय चौबे ने सभी का परिचय दिया एवं सभी सदस्यों द्वारा दो मिनट का मौन देकर इस करोना काल में खो चुके व्यपारियों एवं मित्रों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की ! इस कार्यक्रम में मुख्य वक्ता भारतीय मानक ब्यूरो रायपुर शाखा कार्यलय के वी.गोपीनाथ वैज्ञानिक एफ एवं प्रमुख तथा नितिन खंडेलवाल पूर्व अध्यक्ष जी.जे.सी.(आल इंडिया ज्वेलर्स एसोसियन) थे ! सह वक्ता भारतीय मानक ब्यूरो के रायपुर शाखा कार्यलय के इमानुएल अभिशेख मुर्मू वैज्ञानिक सी थे ! मुख्य अतिथि के रूप में छतीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रिज के प्रदेश अध्यक्ष अमर पारवानी, छतीसगढ़ सराफा संघ के अध्यक्ष अनिल बरडिया, छतीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रिज के उत्तम गोलछा, कैट के कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, अशोक बरडिया प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष, प्रकाश सांखला दुर्ग सराफा व्यापारी संघ एवं प्रदेश उपाध्यक्ष छतीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रिज शामिल थे !

 

ज्ञातव्य हो की भारत सरकार द्वारा स्वर्ण आभूषण पर हालमार्किंग 1 जून 2021 से अनिवार्य कर दिया गया है ! इसको लेकर छतीसगढ़ के सराफा कारोबारियों के विभिन्न संघो द्वारा कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए वेबनायर के माध्यम से स्वर्ण आभूषण ने निर्माताओं एवं विक्रेताओं हेतु जागरूक करने एवं नए प्रावधानों से अवगत कराने हेतु मांग की जा रही थी ! जिस पर भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा लघु उधोग भारती की पहल पर छतीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रिज एवं छतीसगढ़ सराफा संघ के साथ मिलकर इसका आयोजना किया गया जिसमें सराफा कारोबार से जुड़े करीब 180 से अधिक कारोबारियों ने भाग लिया !

 

इस कार्यक्रम में वी.गोपीनाथ ने सभी सराफा कारोबारियों को वेबनार से जुड़ने हेतु धन्यवाद दिया एवं सरकार द्वारा लागू किये गए स्वर्ण आभूषनों पर अनिवार्य हालमार्किग को लेकर अति महत्त्वपूर्ण जानकारियों को साझा करते हुए सराफा कारोबारियों के द्वारा समय रहते उसके लिए तैयार रहने का सुझाव दिया !

 

चूँकि नए नियम के लागू हो जाने के बाद सराफा कारोबारियों को स्वर्ण आभूषण के कारोबार हेतु बीआईएस में पंजीकृत होना अनिवार्य होगा जिसके लिए बीआईएस ने पहले से ही कमर कस ली है ! बीआईएस ने सराफा कारोबारियों को सुगमता से रजिस्ट्रेशन प्रदान करने हेतु आनलाइन पोर्टल www.manakonline.in जारी की है ! इस पोर्टल पर जाकर कुछ जरुरी दस्तावेजों एवं मामूली शुल्क के साथ कोई भी सराफा कारोबारी खुद को पंजीकृत कर आनलाइन लाइसेंस प्राप्त कर सकता है ! इससे पहले लोगों को जहां एक सप्ताह या उससे अधिक का समय लग जाया करता था वहीँ अब वे तत्काल उसी समय लाइसेंस प्राप्त कर सकते है ! इस पूरी प्रक्रिया को अभिषेक मुर्मू वैज्ञानिक सी ने विस्तार पूर्वक पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से समझाया इसके साथ ही सराफा कारोबारियों के द्वारा पूछे गए सवालों का भी जवाब दिया !अंत में छतीसगढ़ सराफा संघ के प्रदेश महासचिव नरेंद्र दुग्गड़ ने बीआईएस के अधिकारियों तथा वेबनार में शामिल सभी सराफा व्यवसाइयो का एवं चेम्बर तथा लघु उधोग भारती का धन्यवाद ज्ञापन किया !

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button