बेमेतरा बारूद फैक्ट्री में ब्लास्ट के मामले में विधायक कविता प्राण लहरे ने भाजपा सरकार पर कसा तंज

49
बेमेतरा बारूद फैक्ट्री में ब्लास्ट के मामले में विधायक कविता प्राण लहरे ने भाजपा सरकार पर कसा तंज

बिलाईगढ़। बेमेतरा बारूद फैक्ट्री में ब्लास्ट के मामले में बिलाईगढ़ विधायक कविता प्राण लहरे ने भाजपा सरकार को घेरा कहा कि दर्जन भर से ज्यादा ग्रामीणों की मौत के बावजूद विष्णु देव सायं सरकार गहरी नींद में सोई है। भाजपा नेताओं के न्याय और सुशासन की गारंटी के दावे का क्या हुआ ? धमाके में मृत लोगों के साथ ही घायलों और लापता लोगों के परिजनों को न्याय नहीं मिलेगा ? क्या साय सरकार ने बारूद फैक्ट्री के मालिक को बचाने की गारंटी दे दी है। विधायक ने कहा कि बारूद फैक्ट्री में ब्लास्ट के छः दिन बाद भी फैक्ट्री मालिक को गिरफ्तार नहीं किया है। प्रशासन द्वारा फैक्ट्री में रखी सामग्री को हटाने कहा गया है, जिससे स्पष्ट हो गया है कि फैक्ट्री में मौजूद साक्ष्यों को हटाने में खुद प्रशासन ही फैक्ट्री मालिक की मदद कर रहा है। शासन-प्रशासन द्वारा फैक्ट्री मालिक के खिलाफ एक्शन लेने की बजाय उसे बचाने का प्रयास घोर निंदनीय है।

CG News : मानवता हुई शर्मसार! तालाब में मिला छह माह के नवजात शिशु का शव, मचा हड़कंप

सबसे बड़ी दुर्भाग्यजनक बात ये है कि हादसे के बाद भाजपा सरकार अभी तक यह स्पष्ट नहीं बता पा रही है कि घटना के दिन कितने लोग फैक्ट्री में कार्यरत थे और कितने लोगों को अस्पताल ले जाया गया। कितने लोगों को बचाया गया और कितने लोगों की मौत हो गई? अब तक इन आंकड़ों को न बता पाना भाजपा सरकार की नाकामी को दर्शाता है। फैक्ट्री से रजिस्टर ही गायब हो गया है।विधायक कविता प्राण लहरे ने कहा विष्फोट इतना भयानक था कि लोगों को मलबे के बीच शरीर के अंग नहीं मिल पा रहे हैं। कितने लोग अभी तक मलबे में दबे हैं और कितने लोग लापता हैं, यह सरकार नहीं बता पा रही है। आसपास के ग्रामीण मलबे के बीच अपने परिजनों को तलाश रहे हैं। ग्रामीण न्याय की गुहार लगा रहे हैं लेकिन छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार लोगों को न्याय नहीं दे रही है। इस घटना से दोषियों को उल्टा लटकाने और बुलडोजर चलाने का दावा करने वाले देश के गृहमंत्री अमित शाह से लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय के दावों की पोल खुल गई है। उल्टा लटकाने और बुलडोजर चलाने की भाजपाई नीति क्या सिर्फ गरीबों को परेशान करने के लिए लागू होती है। बारूद फैक्ट्री में इतना बड़ा अपराध होने के बावजूद छत्तीसगढ़ की वर्तमान भाजपा सरकार पीड़ित परिवारों के साथ न्याय क्यों नहीं कर रही? ये बड़ा सवाल है। छत्तीसगढ़ सहित सभी भाजपा शासित राज्यों में डबल इंजन की सरकार न्याय दिलाने की बजाय अन्याय करने पर उतारू है। बारूद फैक्ट्री में इतना बड़ा हादसा होने के बाद सरकार ने पीड़ित परिवारों को उचित मुआवजा देने का ऐलान तक नहीं किया। छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले में हुए बारूद फैक्ट्री ब्लास्ट के बाद अभी भी कई मजदूर लापता हैं. हादसे के बाद पीड़ित परिवारों ने फैक्ट्री के बाहर धरना भी दिया था. इसके बाद पीड़ित परिवार और फैक्ट्री प्रबंधन के बीच बैठक हुई. इसमें तय किया गया कि 7 पीड़ित परिवारों को 29 – 29 लाख रुपये का चेक और 1 लाख नगद राशि दी जाएगी. हालांकि 2 पीड़ित परिवारों ने 30 लाख रुपये का चेक लेने से इनकार कर दिया है. इतना ही नहीं 2 पीड़ित परिजनों ने 50-50 लाख रुपये की मांग की है ,छत्तीसगढ़ भाजपा सरकार बारूद फैक्ट्री में हुए हादसे में मृतकों के परिवारजनों को अविलंब 50 लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा करे। साथ ही दोषी प्रबंधन के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर तत्काल गिरफ्तार किया जाए।