Stock Market Closing : NDA सरकार बनने की आहट से बाजार में शानदार रिकवरी, Sensex ने 2303 अंक की भरी उड़ान, निवेशकों के 12.96 लाख करोड़ रुपए डूबे

37
Stock Market Closed
Stock Market Closed

 

नई दिल्ली। Stock Market Closing : मंगलवार की गिरावट के साथ शेयर बाजार ने बुधवार को फिर उछाल मारी है। Nifty Metal, Nifty Auto,और Nifty Bank सेक्टर में भी उछाल दर्ज की गई है। हेवीवेट शेयर्स में भी उछाल दर्ज की गई है। बुधवार को जहां सेंसेक्स (Sensex) 4,390 अंक टूटकर 72,079 पर बंद हुआ था तो वहीं निफ्टी-50 भी 1,900 अंक यानी 9 फीसदी तक टूट गया था। लेकिन आज स्थिति में सुधार देखने को मिला।

30 शेयरों वाला सेंसेक्स 3.20 फीसदी यानी 2303.19 अंकों की बढ़त के साथ 74,382.24 के स्तर पर बंद हुआ। Nifty-50 में भी आज 3.36% का उछाल देखने को मिला। यह 735.85 अंकों की बढ़त बनाते हुए 22,620.35 पर बंद हुआ।

आज किन शेयरों ने भरी उड़ान तो इनमें रही गिरावट

30 शेयरों वाले BSE Sensex पर आज सभी कंपनियों के शेयर हरे निशान में बंद हुए। 7.75 % की उछाल के साथ इंडसइंड बैंक के शेयर टॉप गेनर की लिस्ट में नंबर 1 पर है। इसके अलावा टाटा स्टील (Tata Steel), महिंद्रा एंड महिंद्रा (M&M), बजाज फाइनेंस (Bajaj Finance), कोटक महिंद्रा बैंक, एक्सिस बैंक, HDFC बैंक और हिंदुस्तान यूनिलिवर (HUL) के शेयर टॉप गेनर रहे। ये सभी शेयर 4 फीसदी से ज्यादा बढ़त के साथ बंद हुए।

Read More : Share Market Closing : शेयर बाजार आज फिर गिरकर बंद, Sensex में 617 अंक की गिरावट, निवेशकों के 3.88 लाख करोड़ डूबे

वहीं Nifty50 की बात की जाए तो टॉप गेनर की लिस्ट में 7.29 फीसदी की बढ़त के साथ अदाणी पोर्ट्स (Adani Ports) के शेयर रहे। इसके अलावा, इंडसइंड बैंक (7.06%), हिंडाल्को (6.46%), टाटा स्टील (6.32%) और महिंद्रा एंड महिंद्रा (6.06%) भी टॉप गेनर्स रहे।

टॉप लूजर की बात करें तो Nifty50 पर केवल दो शेयर लाल निशान में बंद हुए। पहला- लॉर्सन एंड टुब्रो, जो 0.10 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ। दूसरा BPCL-जो 0.03 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ।

निवेशकों के 12.96 लाख करोड़ रुपए डूबे

बीएसई लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन आज बढ़कर 407.79 लाख करोड़ रुपये पर आ गया, जो इसके पिछले कारोबारी दिन यानी मंगलवार 4 जून को 394.83 लाख करोड़ रुपये था। इस तरह BSE में लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप आज करीब 12.96 लाख करोड़ रुपये बढ़ा है।