आर्चाय विद्यासागर जी महाराज की अस्थि कलश को जमीन में जाएगा दबाया ,उसी स्थान पर बनेगी उनकी समाधि

167

रायपुर | जैन धर्म के प्रमुख आर्चाय विद्यासागर जी महाराज समाधि में लीन हो गए है. उन्होंने इस दुनिया कह दिया है. 17 फरवरी को वे महासमाधि में लीन हो गए. 18 फरवरी को उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया गया. अब 20 फरवरी दिन रविवार को उनके अस्थियों का एकत्रित किया जाएगा. उसके बाद उन अस्थियों को जमीन में दबाया जाता है.जिस स्थान पर अस्थि कलश दबाया जाएगा, उसी स्थान पर वहीं उनकी समाधि बनाई जाएगी.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

प्रतिभा स्थली के अध्यक्ष प्रकाश चंद्र जैन ने बताया कि देशभर से सभी संत पद यात्रा करके यहां आ रहे हैं. सोमवार 19 फरवरी को हुई विनयांजलि सभा में हस्तिनापुर के मठाधीश दिगंबर समाज के कीर्ति रविंद्र जैन पहुंचे. ये ज्ञानमती माता के भाई हैं. उनके अलावा इंदौर, नागपुर, छत्तीसगढ़, भोपाल सहित देश के बड़े ट्रस्टों से बड़ी संख्या में लोग पहुंचे रहे हैं.

आचार्य विद्या सागर जी ने 6 फरवरी को मुनि योग सागर से चर्चा करने के बाद आचार्य पद का त्याग कर दिया था. उन्होंने मुनि समय सागर जी महाराज को आचार्य पद देने की घोषणा की थी. मुनि समय सागर महाराज के चंद्रगिरी तीर्थ पहुंचने के बाद विधिवत तरीके से उन्हें आचार्य की गद्दी सौंपी जाएगी.

IMG 20240420 WA0009
ब्रेकिंग न्यूज़ - कोरोना के बढ़ते प्रसार के कारण सभी इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक, आईटीआई और कौशल विकास प्रशिक्षण संस्थानों को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश जारी