साल के पहले भौम प्रदोष व्रत पर बन रहा शुभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त

250
IMG 20230924 WA0004 1073963031
IMG 20230924 WA0004 1073963031
.

व्यक्ति सच्चे मन से प्रदोष व्रत रखता है और भगवान शिव की उपासना करता है उसे दुख दरिद्रता, संकट, रोग, कर्ज से छुटकारा मिलता है। प्रदोष व्रत बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। आइए जानते हैं इस साल का पहला प्रदोष व्रत कब है और इसका क्या महत्व है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

साल 2024 का पहले प्रदोष व्रत 9 जनवरी 2024 मंगलवार को है। इस दिन साल 2024 की पहली मासिक शिवरात्रि भी है। मंगलवार के दिन प्रदोष व्रत होने से इसे भौम प्रदोष व्रत के नाम से जाना जाएगा। इस दिन मंगलवार के साथ साथ मासिक शिवरात्रि का शुभ संयोग भी है। भौम प्रदोष व्रत में भगवान शिव के साथ साथ भगवान शिव की उपासना करने का भी विधान है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और हनुमान जी की उपासना करने से नकारात्मक शक्तियों का विनाश होता है।

भौम प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार, 8 जनवरी की मध्य रात्रि 11 बजकर 59 मिनट पर त्रयोदशी तिथि आरंभ हो रही है। 9 जनवरी को रात में 10 बजकर 25 मिनट पर त्रयोदशी तिथि का समापन हो रहा है। इस दिन वृद्धि योग भी रहेगा और चंद्रमा धनु राशि में रहेंगे जिससे इस दिन धन योग भी बनेगा।

 व्रत पर रखें इन बातों का ख्याल

भोम प्रदोष व्रत के दिन सुबह जल्दी उठें ब्रह्म मुहूर्त में उठना सबसे शुभ रहेगा।इसके बाद स्नान आदि करने से बाद साफ वस्त्र पहनें और व्रत का संकल्प लें।फिर भगवान शिव के मंत्रों का जप करें और उनकी आरती जरुर करें।भौम प्रदोष व्रत में नमक, लाल मिर्च और अन्न का सेवन न करें।उत्तर पूर्व दिशा में मुख करके प्रभु की पूजा करें।प्रदोष व्रत में शाम की पूजा का विशेष महत्व होता है इसलिए इस दिन शाम के समय पूजा जरुर करें।

श्रीमद् भागवत महापुराण के स्रोताओं को दिया आशीर्वचन, शोक संतृप्त परिवार से मिले