छत्तीसगढ़ में लाल कृष्ण आडवाणी को भारत‌ रत्न देने पर कांग्रेस ने उठाए सवाल- देश के लिए क्या किया?

128

रायपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न दिए जाने का ऐलान किया है।‌ जिसकी जानकारी देते हुए पीएम मोदी ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर बताते हुए खुशी जाहिर की है। वही पूर्व उप प्रधानमंत्री आडवाणी को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा के बाद छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी ने केंद्र की मोदी सरकार पर लालकृष्ण के सार्वजनिक जीवन में किए गए अभूतपूर्व कार्य को सार्वजनिक कर जनता को बताने की मांग की है। कांग्रेस ने कहा कि अब तक जिन्हें भी भारत रत्न मिला है उन्होंने आजादी से पहले या फिर आजादी के बाद देश के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इसलिए केंद्र सरकार लालकृष्ण आडवाणी के द्वारा किए गए सामाजिक हित के कार्यों को सार्वजनिक करें।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

कांग्रेस ने उठाए आडवाणी को भारत रत्न देने पर सवाल

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी के संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को केंद्र सरकार ने भारत रत्न देने का फैसला लिया है, हम उन्हें बधाई और शुभकामनाएं देते हैं। शुक्ला ने कहा कि अभी तक जिन-जिन महापुरुषों को भारत रत्न दिया गया है वह आजादी की लड़ाई से लेकर आजादी के बाद देश के नवनिर्माण में उनके योगदान के कारण भारत रत्न दिया गया है। इससे पहले कभी इस मुद्दे को लेकर कोई सवाल खड़ा नहीं किया गया है। शुक्ला ने कहा कि स्वर्गीय इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान के दो टुकड़े किए थे। स्वर्गीय राजीव गांधी को देश में आईटी और नवाचार के कारण भारत रत्न दिया गया। स्वर्गीय अटल बिहारी को देश में परमाणु संरक्षण और परमाणु विस्फोट के लिए भारत रत्न दिया गया है।

देर रात हुई भाजपा और कांग्रेस के बीच खूनी खेल

कांग्रेस पार्टी ने यह सवाल खड़े करते हुए कहा कि लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न दिया गया है। केंद्र सरकार को आडवाणी जी के द्वारा सार्वजनिक जीवन के किए गए अभूतपूर्व योगदान के बारे में जनता को बताना चाहिए। कांग्रेस ने कहा कि हमे लगता‌ है कि जिस प्रकार से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगातार लालकृष्ण आडवाणी की‌ उपेक्षा की जिससे लगातार भारतीय जनता पार्टी की राजनीति में गुटबाजी थी। जिस तरह से अब तक उनकी उपेक्षा हुई, जिसके प्रायश्चित स्वरूप उन्हें यह भारत रत्न दिया गया है।