केला यूरिक एसिड की समस्या कम करता है

224
.

खराब खानपान के कारण यूरिक एसिड की समस्या का सामना करना पड़ता है। शरीर में यूरिक एसिड का लेवल तब बढ़ता है जब किडनी इसे फिल्टर करने में विफल रहती है। आमतौर पर किडनी का काम यूरिक एसिड को फिल्टर करके यूरीन के जरिए शरीर से बाहर निकाल देना है। जब शरीर में यूरिक एसिड काफी मात्रा में बनने लगता है और किडनी इसे फिल्टर नहीं कर पाती है तब ब्लड में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हालांकि, कम जानकारी के चलते काफी लोग इसके लक्षणों को अनदेखा कर देते हैं। ऐसे में बढ़ा हुआ यूरिक एसिड कई स्वास्थ्य संबंधी  समस्याएं जैसे गाउट, जोड़ों में दर्द और गठिया की समस्या का सामान करना पड़ता है।  समय रहते यूरिक एसिड को कंट्रोल करना बहुत ही जरूरी हैं। इसे कंट्रोल करने के लिए विभिन्न तरह के उपाय अपनाते हैं। रोजाना योग करने के साथ-साथ डाइट में केला शामिल करें। इससे आपका यूरिक एसिड आसानी से कंट्रोल हो जाएगा।

जानिए कैसे करें यूरिक एसिड के मरीज केले का सेवन

केले में थोड़ी मात्रा में प्यूरीन होता है। जिस फूड में पर्याप्त कार्बोहाइड्रेट स्रोतों की कमी होती है वह आपके कीटोन यौगिकों के स्तर को बढ़ा सकता है और आपके रक्त में यूरिक एसिड की सांद्रता बढ़ा सकता है। ऐसे में केला काफी फायदेमंद होगा क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है।

विटामिन सी से भरपूर डाइट लेने वाले पुरुषों में उम्र बढऩे के साथ गाउट होने की संभावना कम हो सकती है। एक बड़े केले में लगभग 12 मिलीग्राम विटामिन सी होता है और यह प्रति व्यक्ति की दैनिक आवश्यकता का लगभग 13 प्रतिशत और एक महिला का 16 प्रतिशत होता है। इसलिए केला का सेवन करना फायदेमंद होगा। क्योंकि यह यूरिक एसिड के स्तर को काफी कम नहीं करता है बल्कि नॉर्मल रखता है।

लौकी जूस पीने के फायदे

यूरिक एसिड के मरीज केले का सेवन विभिन्न तरीके से कर सकते हैं। रोजाना 2-3 केले आप ऐसे ही खा लें। पोषक तत्वों से भरपूर नाश्ते में आप केले को शामिल कर सकते हैं। इसे आप सादे कम वसा वाले दही के साथ मिलाएं। इसके अलावा आप कम वसा वाले दूध में मिलाकर स्मूदी बनाकर पी सकते हैं।